30 नवंबर, 2007

सीख लोगे...




सत्य का रास्ता बहुत कठिन होता है ,
बहुत तकलीफें,
अनगिनत कठिनाईयाँ .
सरल कुछ भी नहीं होता है.
पर यूँ ही तो नहीं कहते सब
'सत्यमेव जयते'?
जीत आसानी से कभी नहीं मिलती.
अक्षरों का ज्ञान तक
अभ्यास-दर-अभ्यास होता है,
बच्चों की ज़ुबान पर शब्द लाने के लिए
अभिभावकों को भी फिर से पढना होता है
रटाने के लिए रटना पड़ता है......
जूते पहनकर कब तक चलोगे?
कांटे चुभे नहीं,
तो निकालना कैसे सीखोगे?
पहले मकसद तो बनाओ जीत की
रास्ते आसान बनाना सीख लोगे...

10 टिप्‍पणियां:

  1. जूते पहनकर कब तक चलोगे?
    कांटे चुभे नहीं,
    तो निकालना कैसे सीखोगे?
    पहले मकसद तो बनाओ जीत की
    रास्ते आसान बनाना सीख लोगे...

    bahuut sundar kavita ka bahut sundar vishram dhnya hai ye kavita

    Anil

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्य का रास्ता बहुत कठिन होता है ,
    बहुत तकलीफें,
    अनगिनत कठिनाईयाँ .
    सरल कुछ भी नहीं होता है.

    सही लिखा आपने ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी पोस्ट यहाँ भी है……नयी-पुरानी हलचल

    http://nayi-purani-halchal.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. पहले मकसद तो बनाओ जीत की
    रास्ते आसान बनाना सीख लोगे...

    बहुत अच्छा संदेश दिया है आपने.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. कांटे चुभे नहीं,
    तो निकालना कैसे सीखोगे?
    पहले मकसद तो बनाओ जीत की
    रास्ते आसान बनाना सीख लोगे...

    कितनी हच बात कही है ..जब तक परेशानियाँ नहीं आएँगी तो उनसे निपटना भी नहीं सीख सकते ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहले मकसद तो बनाओ जीत की
    रास्ते आसान बनाना सीख लोगे...
    sunder rachna ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. पहले मकसद तो बनाओ जीत की
    रास्ते आसान बनाना सीख लोगे..सुन्दर अभिव्यक्ति् धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर..प्रेरणादायी रचना..
    सादर नमन रश्मि जी.

    उत्तर देंहटाएं
  9. जूते पहनकर कब तक चलोगे?
    कांटे चुभे नहीं,
    तो निकालना कैसे सीखोगे?

    बहुत सहज बहतु सुन्दर दी....
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं

अक्षम्य अपराध

उसने मुझे गाली दी .... क्यों? उसने मुझे थप्पड़ मारा ... क्यों ? उसने मुझे खाने नहीं दिया ... क्यों ? उसने उसने उसने क्यों क्यों ...